Sanskrit Shlok .com ---------यतो धर्मः ततो जयः ----- "जहाँ धर्म है वहाँ जय है।" -------महाभारत

Gyan shlok in hindi ज्ञान पर संस्कृत श्लोक part3 1

Gyan shlok in hindi ज्ञान पर संस्कृत श्लोक part3

Gyan shlok in hindi ज्ञान पर संस्कृत श्लोक part3 तेनाधीतं श्रुतं तेन सर्वमनुष्ठितम् । येनाशाः पृष्ठतः कृत्वा नैराश्यमवलंबितम् ॥ जिसने आशा को पीछे छोड दिया है और निष्कामता का अवलंबन किया है, वही सब...

Gyan shlok in hindi ज्ञान पर संस्कृत श्लोक 2

Gyan shlok in hindi ज्ञान पर संस्कृत श्लोक

Gyan shlok in hindi ज्ञान पर संस्कृत श्लोक इहलोके सुखं हित्वा ये तपस्यन्ति दुर्धियः । हित्वा हस्तगतं ग्रासं ते लिहन्ति पदाङ्गुलिम् ॥ इहलोक के (पृथ्वी के) सुखों का त्याग करके जो मूढ लोग तप...

ज्ञान पर संस्कृत श्लोक Gyan shlok in hindi 3

ज्ञान पर संस्कृत श्लोक Gyan shlok in hindi

ज्ञान पर संस्कृत श्लोक Gyan shlok in hindi अल्पाक्षरमसंदिग्धं सारवद्विश्वतो मुखम् । अस्तोभमनवद्यं च सूत्रं सूत्रविदो विदुः ॥ अल्पाक्षरता, असंदिग्धता, साररुप, सामान्य सिद्धांत, निरर्थक शब्द का अभाव, और दोषरहितत्व – ये छे ‘सूत्र’ के...

गुरु श्लोक Top sanskrit shlok on guru in hindi 3

गुरु श्लोक Top sanskrit shlok on guru in hindi

गुरु श्लोक Top sanskrit shlok on guru in hindi: नीचः श्लाद्यपदं प्राप्य स्वामिनं हन्तुमिच्छति । मूषको व्याघ्रतां प्राप्य मुनिं हन्तुं गतो यथा ॥ उच्च स्थान प्राप्त करते ही, अपने स्वामी को मारने की इच्छा...

sanskrit shlok on guru in hindi part2 1

गुरु पर संस्कृत श्लोक हिंदी में part2

गुरु पर संस्कृत श्लोक हिंदी में part2: पूर्णे तटाके तृषितः सदैव भूतेऽपि गेहे क्षुधितः स मूढः । कल्पद्रुमे सत्यपि वै दरिद्रः गुर्वादियोगेऽपि हि यः प्रमादी ॥ जो इन्सान गुरु मिलने के बावजुद प्रमादी रहे,...

guru pr sanskrit shlok hindi main Top Guru Shlok in hindi 1

गुरु पर संस्कृत श्लोक हिंदी में Top Guru Shlok in hindi

गुरु पर संस्कृत श्लोक हिंदी में Top Guru Shlok in hindi प्रेरकः सूचकश्वैव वाचको दर्शकस्तथा । शिक्षको बोधकश्चैव षडेते गुरवः स्मृताः ॥ प्रेरणा देनेवाले, सूचन देनेवाले, (सच) बतानेवाले, (रास्ता) दिखानेवाले, शिक्षा देनेवाले, और बोध...

ऐसा गृहस्थाश्रम धन्य है गृहस्थी पर संस्कृत श्लोक हिंदी में Part 5 2

ऐसा गृहस्थाश्रम धन्य है गृहस्थी पर संस्कृत श्लोक हिंदी में Part 5

ऐसा गृहस्थाश्रम धन्य है गृहस्थी पर संस्कृत श्लोक हिंदी में Part 5: यस्य पुत्रो वशीभूतो भार्या छन्दानुगामिनी । विभवे यश्च सन्तुष्टः तस्य स्वर्ग इहेव हि ॥ जिसका पुत्र उसके वश है, पत्नी कहा करनेवाली...

गृहस्थी पर संस्कृत श्लोक हिंदी में Part 4 sanskritshlok 0

गृहस्थी पर संस्कृत श्लोक हिंदी में Part 4

गृहस्थी पर संस्कृत श्लोक हिंदी में Part 4 top sanskrit shlok त्यागाय समृतार्थानां सत्याय मिभाषिणाम् । यशसे विजिगीषूणां प्रजायै गृहमेधिनाम् ॥ सत्पात्र को दान देने के लिए धन इकट्ठा करनेवाले, यश के लिए विजय...

गृहस्थी पर संस्कृत श्लोक हिंदी में top sanskrit shlok 0

गृहस्थी पर संस्कृत श्लोक हिंदी में Part 3

गृहस्थी पर संस्कृत श्लोक हिंदी में Part 3 Sanskrit shlok in hindi: त्रयः कालकृताः पाशाः शक्यन्ते न निवर्तितुम् । विवाहो जन्म मरणं यथा यत्र च येन च ॥ विवाह, जन्म, और मरण – ये...

गृहस्थी पर संस्कृत श्लोक हिंदी में 2

गृहस्थी पर संस्कृत श्लोक हिंदी में Part 2 Sanskrit shlok

गृहस्थी पर संस्कृत श्लोक हिंदी में Part 2 Sanskrit shlok कुले कलङ्कः कवले कदन्नता सुतः कुबुद्धिः र्भवने दरिद्रता । रुजः शरीरे कलहप्रिया प्रिया गृहागमे दुर्गतयः षडेते ॥ घर में आने पर कलंकित कुल, कुअन्न...