Sanskrit Shlok .com ---------यतो धर्मः ततो जयः ----- "जहाँ धर्म है वहाँ जय है।" -------महाभारत

दुर्जन पर संस्कृत श्लोक हिंदी में Top Sanskrit Shlok 0

दुर्जन पर संस्कृत श्लोक हिंदी में Top Sanskrit Shlok

बोधितोऽपि बहु सूक्तिविस्तरैः किं खलो जगति सज्जनो भवेत् । स्नापितोऽपि बहुशो नदीजलैः गर्दभः किमु हयो भवेत् कचित् ॥ अच्छे वचनों के उपदेश देने से क्या इस दुनिया में दुष्ट मानव सज्जन हो जायेंगे ?...

क्षान्ति तुल्यं तपो नास्ति Top Sanskrit shlok ever 3

क्षान्ति तुल्यं तपो नास्ति Top Sanskrit shlok ever

क्षान्ति तुल्यं तपो नास्ति सन्तोषान्न सुखं परम् । नास्ति तृष्णा समो व्याधिः न च धर्मो दयापरः ॥ क्षमा जैसा अन्य तप नहि, संतोष जैसा अन्य सुख नहि, तृष्णा जैसा अन्य रोग नहि, दया जैसा...

दया पर संस्कृत श्लोक हिंदी में sanskrit shlok 3

दया पर संस्कृत श्लोक हिंदी में

संसारे मानुष्यं सारं मानुष्ये च कौलीन्यम् । कौलिन्ये धर्मित्वं धर्मित्वे चापि सदयत्वम् ॥ संसार में मनुष्यत्व, मनुष्यत्व में खानदानी, खानदानी में धर्मिष्टत्व, और धर्मिष्टत्व में सदयत्व सार (रुप) है । दयां विना देव गुरुक्रमार्चाः...

चरित्र पर संस्कृत श्लोक हिंदी में 2 sanskrit shlok 1

चरित्र पर संस्कृत श्लोक हिंदी में 2

अहल्या द्रौपदी सीता तारा मन्दोदरी तथा । पञ्चकं ना स्मरेन्नित्यं महापातकनाशनम् ॥ अहल्या, द्रौपदी, सीता, तारा, और मंदोदरी, इन पाँचों के नित्य स्मरण से (गुण और जीवन स्मरण से) महापातक का नाश होता है...

sanskrit shlok on character in hindi चरित्र पर संस्कृत श्लोक हिंदी में 2

चरित्र पर संस्कृत श्लोक हिंदी में

श्रुति र्विभिन्ना स्मृतयोऽपि भिन्नाःनैको मुनि र्यस्य वचः प्रमाणम् ।धर्मस्य तत्त्वं निहितं गुहायाम्महाजनो येन गतः स पन्थाः ॥श्रुति में अलग अलग कहा गया है; स्मृतियाँ भी भिन्न भिन्न कहती हैं; कोई एक ऐसा मुनि नहि...

बुद्धिमान पर संस्कृत श्लोक हिंदी में sanskrit shlok on intelligence2 2

बुद्धिमान पर संस्कृत श्लोक हिंदी में 2

बुद्धिमान पर संस्कृत श्लोक हिंदी में शुश्रूषा श्रवणं चैव ग्रहणं धारणां तथा । ऊहापोहोऽर्थ विज्ञानं तत्त्वज्ञानं च धीगुणाः ॥ शुश्रूषा, श्रवण, ग्रहण, धारण, चिंतन, उहापोह, अर्थविज्ञान, और तत्त्वज्ञान – ये बुद्धि के गुण हैं...

बुद्धिमान पर संस्कृत श्लोक हिंदी में sanskrit shlok on intelligence2 1

बुद्धिमान पर संस्कृत श्लोक हिंदी में

बुद्धिमान पर संस्कृत श्लोक हिंदी में गन्धः सुवर्णे फलमिक्षुदण्डे नाकारि पुष्पं खलु चन्दनेषु । विद्वान् धनाढ्यो न तु दीर्घजीवी धातुः पुरा कोऽपि न बुद्धिदोऽभूत ॥ सोने में सुगंध, गन्ने को फल और चन्दन वृक्ष...

दान पर संस्कृत श्लोक Part4 Sanskrit Shlok in Hindi on daan 0

Sanskrit Shlok in Hindi on daan दान पर संस्कृत श्लोक Part4

Sanskrit Shlok in Hindi on daan रक्षन्ति कृपणाः पाणौ द्रव्यं प्राणमिवात्मनः । तदेव सन्तः सततमुत्सृजन्ति यथा मलम् ॥ कृपण (लोभी) प्राण की तरह द्रव्य का अपने हाथ में रक्षण करता है, पर संत पुरुष...

दान पर संस्कृत श्लोक in Hindi Part3 1

दान पर संस्कृत श्लोक in Hindi Part3

दान पर संस्कृत श्लोक in Hindi Part3 मैं ने अनेक प्रकार के दान और विविध रत्न दिये, पर एक भी मधुर वाक्य नहि दिया, इस लिए मेरा मुख सूअर का है Read more below………....